एक्यूरेट में कोलाज प्रतियोगिता

नॉलेज पार्क ३ स्थित एक्यूरेट इंस्टिट्यूट के सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के तत्वाधान में आधुनिक तकनिकी पर आधारित कोलाज प्रतियोगिता का आयोजन किया गया. जिसमे पी जी डी एम के छात्र -छात्राओं ने विभिन्न तकनिकी मुद्दों को कोलाज के माध्यम से प्रदर्शित किया. कोलाज प्रतियोगिता का आकर्षण पे टीएम, क्लाउड कंप्यूटिंग व स्मार्ट स्कूल्स रहे.
एक्यूरेट की समूह निदेशिका सुश्री पूनम शर्मा ने बताया कि कोलाज प्रतियोगिता के माद्यम से छात्र-छात्राएं में इनोवेटिव थिंकिंग को बढ़ावा देना है जिससे कि वो आने वाले समय में तकनिकी को बेहतर रूप से समझकर कुछ नया उत्पाद या उत्पादन कर सके. सुश्री पूनम शर्मा ने बताया कि विमुद्रीकरण के फैसले के बाद व्यावहारिक रूप से प्रोयोग में लेन वाली तकनिकी में भी बहुत बदलाव आया है. उन्होंने कहा कि इलेक्ट्रॉनिक बटुआ जैसे पे टी एम, व अन्य कैशलेस माध्यमो में हुए बदलाव आये है जिसकी वजह से देश का तकनिकी परिवेश एक नयी दिशा में जा रहा है और इस नयी दिशा को हमारे छात्र-छात्राओं ने कोलाज के माध्यम से काफी सरलता से समझाया है.
संस्था के कार्यकारी निदेशक डा राजीव भारद्वाज ने देश कि तरक्की में सूचना व प्रौद्योगिकी के महत्व को समझाया. उन्होंने कहा कि किसी भी सिस्टम के लिए सूचना उतनी ही महत्वपूर्ण होती है जितनी कि शरीर के लिए ऑक्सीजन. क्योंकि किसी भी कंपनी के सारे निर्णय कंपनी को मिलने वाली सूचना पर निर्भर करते है.
आई टी विभाग के अध्यक्ष व कोऑर्डिनेटर प्रोफ प्रदीप वर्मा ने बताया कि कोलाज प्रतियोगिता हमारा एक वार्षिक कार्यक्रम है जिसमे छात्र- छात्राएं अपनी कला का स्तेमाल करते हुए विभिन्न प्रकार कि तकनिकी को कोलाज के माध्यम से प्रदर्शित करते है. सभी कोलाज को विशेष रूप से संभाल कर रखा जाता है व उनकी एक प्रदर्शनी भी आयोजित कि जाती है.
कोलाज प्रतियोगिता के संयोजक प्रोफ हरीश कुमार ने बताया कि पी जी डी एम के छात्रों द्वारा स्मार्ट क्लासेज का कांसेप्ट जूरी मेंबर्स को बहुत पसंद आया और उसे प्रथम विजेता के रूप में चुना गया. दुसरे विजेता के रूप में पे टी एम के कोलाज को चुना गया जबकि सूचना तकनिकी के कोलाज को तीसरा स्थान मिला.
प्रोफ रिपुदमन गौड़, प्रोफ विनय झा व डा ए के मिश्रा को इस प्रतियोगिता के जज के रूप में आमंत्रित किया गया.

Accurate Institute of Management and Technology, Greater Noida has been conferred with 3 Awards at 1st Asia Pacific Education Excellence Award Ceremony

Accurate Institute of Management and Technology, Greater Noida has been conferred with 3 Awards at 1st Asia Pacific Education Excellence Award Ceremony .
1. Best Management Campus in Asia Overall
2. Best Management Institute for 100% Placements
3. Women Entrepreneur of the Year in Asia for developing Best Education Group for Our Honourable Group Director Madam.

एक्यूरेट में इंटरनेशनल गेस्ट लेक्चर का आयोजन

नॉलेज पार्क ३ स्थित एक्यूरेट इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी के तत्वाधान में ब्रांडिंग इन एरा ऑफ़ डिजिटलिज़शन विषय पर इंटरनेशनल गेस्ट लेक्चर का आयोजन किया गया. अमेरिका की एरिज़ोना यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर बंकिम पांडिया को गेस्ट लेक्चर के लिए आमंत्रित किया गया. संस्था की समूह निदेशिका सुश्री पूनम शर्मा ने प्रोफेसर बंकिम का बुके देकर स्वागत किया.लेक्चर के समापन पर पी जी डी ऍम के छात्र- छात्राओं ने ब्रांडिंग विषय पर कई प्रश्न भी पूछे जिनका प्रोफ बंकिम ने बड़ी सरलता से जवाब दिया.
प्रोफ बंकिम ने बताया की ब्रांडिंग एक ऐसा विषय है जो नाकि सिर्फ उद्योग जगत व कमपनी के प्रोडक्ट के लिए आवश्यक है अपितु हर छेत्र में ब्रांडिंग की आवश्यकता है. उन्होंने डोनाल्ड ट्रम्प का उदाहरण देते हुए कहा कि चुनाव में डोनाल्ड ट्रम्प ने अपने आप को एक ब्रांड के रूप में स्थापित किया. उन्होंने छात्र- छात्राओं को सुझाव दिया कि आप भी अपने आप को अपने एम्प्लायर के नज़रिये से एक ब्रांड के रूप में स्थापित कर सकते है. उन्होंने ब्रांड डेवलपमेंट के बारे में बताते हुए कहा कि वाइब ( VIBE ) वैल्यू , इमेज,ब्रांड एंड एम्पावरमेंट के प्रोसेस है जिसके जरिये ब्रांड को स्थापित किया जा सकता है.
उन्होंने कहा की हर प्रोडक्ट या पर्सन की एक वैल्यू होती है और ये वैल्यू एक इमेज के रूप में स्थापित होती है जिसकी वजह से ब्रांड बनता है और जब ब्रांड को दूसरो के द्वारा सराहा जाने लगता है तो वो एक एम्पॉवेरड़ ब्रांड बन जाता है.
इंटरनेशनल लेक्चर के बाद छात्र- छात्राओं ने काफी प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि यह एक दुर्लभ मौका है जब ब्रांड जैसे विषय को हमने नए दृष्टिकोण से समझ है. संस्था के महानिदेशक डा सरोज कुमार दत्त ने प्रोफ बंकिम का धन्यवाद् देते हुए कहा कि प्रोफ बंकिम से अनुरोध है कि समय समय पर आकर छात्र छात्राओं का मार्ग दर्शन करते रहे.