एक्यूरेट को मिला बेस्ट इंजीनियरिंग कॉलेज अवार्ड

नॉलेज पार्क ३ स्थित एक्यूरेट इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट & टेक्नोलॉजी, ग्रेटर नॉएडा को बेस्ट इंजीनियरिंग कॉलेज फॉर एडवांस्ड लर्निंग का अवार्ड मिला । यह अवार्ड एक्यूरेट को नेशनल एजुकेशन एक्सीलेंस अवार्ड २०१७ के अन्तर्गत दिया गया । यह अवार्ड एक्यूरेट को नई दिल्ली में देश की जानी मानी संस्था एससोचेम द्धारा आयोजित प्रोग्राम में दिया गया। इस कार्यक्रम में मानव संसाधन विकास मंत्री श्री प्रकाश जावड़ेकर जी मुख्य अतिथि रहे ।

एक्यूरेट की तरफ से संस्थान के कार्यकारी निदेशक डॉ. राजीव भरद्वाज एवं एक्यूरेट इंजीनियरिंग कॉलेज के निदेशक डॉ. एस. के . दुबे ने संयुक्त रूप से इस अवार्ड को ग्रहण किया ।एक्यूरेट इंस्टिट्यूट की समूह निदेशिका सुश्री पूनम शर्मा ने अवार्ड मिलने पर अपार हर्ष व्यक्त किया । उन्होंने अवार्ड के लिए समस्त कर्मचारियों का धन्यवाद किया, उनके अनुसार इस तरह के अवार्ड में इंस्टिट्यूट के सभी सदस्यों का बराबर का योगदान है और यह उनके ही अथक परिश्रम का फल है ।

एक्यूरेट समूह में भिन्न तरह के कोर्स चलाये जाते हैं जैसे बी. टेक. , एम् बी ए, पी जी डी एम् , पॉलिटेक्निक एवं बी आर्क । एक्यूरेट इंस्टिट्यूट को विगत वर्षों में भी देश की विभिन्न संस्थाओं द्धारा तरह तरह के अवार्ड प्राप्त होते रहे हैं । एक्यूरेट इंस्टिट्यूट ग्रेटर नॉएडा में छात्रों के मध्य अपनी शिक्षा प्रणाली एवं छात्रों के सर्वांगीण विकास के लिए जाना जाता रहा है । एक्यूरेट इंस्टिट्यूट प्रति वर्ष अपने छात्रों को १००% प्लेसमेंट देने के लिए भी विख्यात है । प्रति वर्ष सैकड़ो कंपनियां एक्यूरेट इंस्टिट्यूट के छात्रों को नौकरियां देने के लिए संस्थान का रुख करती हैं और ऊँचे वेतनमान पर छात्रों का चयन करती हैं ।

एक्यूरेट इंस्टिट्यूट ऑफ़ आर्किटेक्चर एंड प्लानिंग में दो दिवसीय खेल स्पर्धा

हर वर्ष की भाति दिंनॉक 15-16 फरबरी 2017 का एक्यूरेट इंस्टिट्यूट ऑफ़ आर्किटेक्चर एंड प्लानिंग में दो दिवसीय खेल स्पर्धा का आयोजन किया गया । इस स्पर्धा मे पांचो वर्षो के छात्रों एव छात्राओं ने अनेक प्रकार के खेलों से भाग लिया । खेलकूद प्रतियोगिता मे फुटबाल बालीबाल, बास्केट बाल, क्रिकेट, कबडडी, खो-खो एवं टी टी जैसे खेलों का आयोजन किया गया । संस्था की भिन्न भिन्न टीमों ने खेलों का आनन्द उठाया। दर्शक दीर्घा मे बैठे हुये सैकड़ों की संख्या में छात्रों ने प्रतियोगियों का हौंसला बढाया । कार्यक्रम का उदघाटन संस्था के निर्देशक प्रो0 देवल कुमार राजवंशी ने किया। उनके साथ अन्य विभागो के निर्देशक भी उपस्थित थे। कार्यकारी निर्देशक ने अपने उदबोधन मे कहा की आज के दौर मे जहाँ युवा खेलो के नाम पर केवल स्मार्ट फोन पर अंगूठा चलाना पसंद करते है वहाँ इस प्रकार के शारीरिक क्रिया कलापों से छात्रों के शरीर, मन एव मस्तिष्क स्वस्थ रहते है, और युवा उन्नति कं मार्ग पर अग्रसर होते है।

एक्यूरेट में कोलाज प्रतियोगिता

नॉलेज पार्क ३ स्थित एक्यूरेट इंस्टिट्यूट के सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के तत्वाधान में आधुनिक तकनिकी पर आधारित कोलाज प्रतियोगिता का आयोजन किया गया. जिसमे पी जी डी एम के छात्र -छात्राओं ने विभिन्न तकनिकी मुद्दों को कोलाज के माध्यम से प्रदर्शित किया. कोलाज प्रतियोगिता का आकर्षण पे टीएम, क्लाउड कंप्यूटिंग व स्मार्ट स्कूल्स रहे.
एक्यूरेट की समूह निदेशिका सुश्री पूनम शर्मा ने बताया कि कोलाज प्रतियोगिता के माद्यम से छात्र-छात्राएं में इनोवेटिव थिंकिंग को बढ़ावा देना है जिससे कि वो आने वाले समय में तकनिकी को बेहतर रूप से समझकर कुछ नया उत्पाद या उत्पादन कर सके. सुश्री पूनम शर्मा ने बताया कि विमुद्रीकरण के फैसले के बाद व्यावहारिक रूप से प्रोयोग में लेन वाली तकनिकी में भी बहुत बदलाव आया है. उन्होंने कहा कि इलेक्ट्रॉनिक बटुआ जैसे पे टी एम, व अन्य कैशलेस माध्यमो में हुए बदलाव आये है जिसकी वजह से देश का तकनिकी परिवेश एक नयी दिशा में जा रहा है और इस नयी दिशा को हमारे छात्र-छात्राओं ने कोलाज के माध्यम से काफी सरलता से समझाया है.
संस्था के कार्यकारी निदेशक डा राजीव भारद्वाज ने देश कि तरक्की में सूचना व प्रौद्योगिकी के महत्व को समझाया. उन्होंने कहा कि किसी भी सिस्टम के लिए सूचना उतनी ही महत्वपूर्ण होती है जितनी कि शरीर के लिए ऑक्सीजन. क्योंकि किसी भी कंपनी के सारे निर्णय कंपनी को मिलने वाली सूचना पर निर्भर करते है.
आई टी विभाग के अध्यक्ष व कोऑर्डिनेटर प्रोफ प्रदीप वर्मा ने बताया कि कोलाज प्रतियोगिता हमारा एक वार्षिक कार्यक्रम है जिसमे छात्र- छात्राएं अपनी कला का स्तेमाल करते हुए विभिन्न प्रकार कि तकनिकी को कोलाज के माध्यम से प्रदर्शित करते है. सभी कोलाज को विशेष रूप से संभाल कर रखा जाता है व उनकी एक प्रदर्शनी भी आयोजित कि जाती है.
कोलाज प्रतियोगिता के संयोजक प्रोफ हरीश कुमार ने बताया कि पी जी डी एम के छात्रों द्वारा स्मार्ट क्लासेज का कांसेप्ट जूरी मेंबर्स को बहुत पसंद आया और उसे प्रथम विजेता के रूप में चुना गया. दुसरे विजेता के रूप में पे टी एम के कोलाज को चुना गया जबकि सूचना तकनिकी के कोलाज को तीसरा स्थान मिला.
प्रोफ रिपुदमन गौड़, प्रोफ विनय झा व डा ए के मिश्रा को इस प्रतियोगिता के जज के रूप में आमंत्रित किया गया.

Accurate Institute of Management and Technology, Greater Noida has been conferred with 3 Awards at 1st Asia Pacific Education Excellence Award Ceremony

Accurate Institute of Management and Technology, Greater Noida has been conferred with 3 Awards at 1st Asia Pacific Education Excellence Award Ceremony .
1. Best Management Campus in Asia Overall
2. Best Management Institute for 100% Placements
3. Women Entrepreneur of the Year in Asia for developing Best Education Group for Our Honourable Group Director Madam.

एक्यूरेट में इंटरनेशनल गेस्ट लेक्चर का आयोजन

नॉलेज पार्क ३ स्थित एक्यूरेट इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी के तत्वाधान में ब्रांडिंग इन एरा ऑफ़ डिजिटलिज़शन विषय पर इंटरनेशनल गेस्ट लेक्चर का आयोजन किया गया. अमेरिका की एरिज़ोना यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर बंकिम पांडिया को गेस्ट लेक्चर के लिए आमंत्रित किया गया. संस्था की समूह निदेशिका सुश्री पूनम शर्मा ने प्रोफेसर बंकिम का बुके देकर स्वागत किया.लेक्चर के समापन पर पी जी डी ऍम के छात्र- छात्राओं ने ब्रांडिंग विषय पर कई प्रश्न भी पूछे जिनका प्रोफ बंकिम ने बड़ी सरलता से जवाब दिया.
प्रोफ बंकिम ने बताया की ब्रांडिंग एक ऐसा विषय है जो नाकि सिर्फ उद्योग जगत व कमपनी के प्रोडक्ट के लिए आवश्यक है अपितु हर छेत्र में ब्रांडिंग की आवश्यकता है. उन्होंने डोनाल्ड ट्रम्प का उदाहरण देते हुए कहा कि चुनाव में डोनाल्ड ट्रम्प ने अपने आप को एक ब्रांड के रूप में स्थापित किया. उन्होंने छात्र- छात्राओं को सुझाव दिया कि आप भी अपने आप को अपने एम्प्लायर के नज़रिये से एक ब्रांड के रूप में स्थापित कर सकते है. उन्होंने ब्रांड डेवलपमेंट के बारे में बताते हुए कहा कि वाइब ( VIBE ) वैल्यू , इमेज,ब्रांड एंड एम्पावरमेंट के प्रोसेस है जिसके जरिये ब्रांड को स्थापित किया जा सकता है.
उन्होंने कहा की हर प्रोडक्ट या पर्सन की एक वैल्यू होती है और ये वैल्यू एक इमेज के रूप में स्थापित होती है जिसकी वजह से ब्रांड बनता है और जब ब्रांड को दूसरो के द्वारा सराहा जाने लगता है तो वो एक एम्पॉवेरड़ ब्रांड बन जाता है.
इंटरनेशनल लेक्चर के बाद छात्र- छात्राओं ने काफी प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि यह एक दुर्लभ मौका है जब ब्रांड जैसे विषय को हमने नए दृष्टिकोण से समझ है. संस्था के महानिदेशक डा सरोज कुमार दत्त ने प्रोफ बंकिम का धन्यवाद् देते हुए कहा कि प्रोफ बंकिम से अनुरोध है कि समय समय पर आकर छात्र छात्राओं का मार्ग दर्शन करते रहे.

एक्यूरेट में ५०० से ज्यादा छात्रों का पूल कैंपस

नॉलेज पार्क ३ स्थित एक्यूरेट संस्थान में बहुराष्ट्रीय कंपनी रेडिंगटन का पूल कैंपस आयोजित किया गया जिसमे करीब 20 कॉलेज व यूनिवर्सिटीज से ५०० से अधिक छात्र- छात्राओं ने भाग लिया.एक्यूरेट प्रांगण में आयोजित पूल कैंपस में भाग लेने वाले संस्थानों में मुख्या रूप से एमिटी यूनिवर्सिटी, आई एम एस-ग़ज़िआबाद व नॉएडा , आर्मी इंस्टिट्यूट, दून बिज़नस स्कूल देहरादून,आई ऍम ऍम नई देल्ही, ऐन आई आई एल ऍम. जे आर इ, शारदा विश्वविद्यालय ने भाग लिया
रेडिंगटन कंपनी के सीनियर वाईस प्रेसिडेंट (मानव संसाधन ) श्री जाबेज़ सेल्विन ने प्लेसमेंट से पहले सभी प्रतिभागी छात्र- छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा कि आज के पर्तिस्पर्धा के युग में ऐसे वर्कफोर्स की आवश्यकता है जो कि कंपनी की प्रगति में प्रतिभागी बन सके।रेडिंगटन कंपनी के बारे में बताते हुए श्री जाबेज़ ने कहा कि एक प्रिंटर में डील करने वाली रेडिंगटन कंपनी आज विश्व भर में सभी बड़े बड़े ब्रांड्स के साथ काम कर रही है एवम कंपनी का ग्राफ निरंतर ऊपर बढ़ता जा रहा है. कंपनी को मेहनती, लगनशील व धनात्मक सोच रखने वालो की आवश्यकता है. श्री जाबेज़ ने बताया कि सभी प्रतिभागी छात्र छात्राओं को पहले ग्रुप डिस्कशन में भाग लेना होगा उसके बाद पर्सनल इंटरव्यू लिया जायेगा, चयनित प्रतिभागियों को कल दिनांक ३० नवम्बर को सयकोमेट्रिक टेस्ट के लिए बुलाया जायेगा.
संस्था की समूह निदेशिका सुश्री पूनम शर्मा ने संबोधित करते हुए कहा कि कठिन परिश्रम व द्रण निश्चय प्रत्येक सफलता की कुंजी होती है। उन्होने कहा भारत युवाओं का देश है इस देश कि सबसी बड़ी ताकत युवाओ कि ऊर्जा है। इस ऊर्जा का सही इस्तेमाल देश व संस्था के निर्माण मे होना चाहिए । समूह निदेशिका ने कहा कि विश्व मे प्रतिस्पर्धा का दौर है इस दौर मे आपको हर वक़्त सचेत और गतिशील रहना होता है। सुश्री पूनम शर्मा ने छात्र-छात्राओं को शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि प्रबंधन के छेत्र मे अपार संभावनाएँ है, अवसरो का बोध करना व उसका दोहन करना ही उचित प्रबंधकीय सोच होगी। सुश्री शर्मा ने अतिथि व छात्र-छात्राओं का स्वागत करते हुए कहा कि हम शिक्षा के क्षेत्र मे गुणवत्ता को लेकर काफी सजग है। शिक्षा कि गुणवत्ता के साथ कोई भी समझोता नहीं किया जाएगा। उन्होने कहा कि पिछले कई वर्षो से एक्यूरेट ने परीक्षा परिणाम व प्लेसमेंट को लेकर कई उपलब्धियां हासिल कि है। उन्होने बताया कि हम गत कई वर्षों से 100 प्रतिशत परीक्षा परिणाम प्राप्त कर रहे है तथा प्रत्येक छात्र को उसकी योग्यतानुसार उचित जॉब भी दिलाते रहे है।एक्यूरेट के इस मुकाम के लिए उन्होने सभी प्राध्यापको प्लेसमेंट विभाग व अनुसाशन विभाग को भी धन्यवाद प्रस्तुत किया।
एक्यूरेट संस्थान के प्लेसमेंट विभाग के अध्यक्ष श्री सतीश वर्मा ने बताया कि रेडिंगटन हर साल एक्यूरेट में पूल कैंपस का आयोजन करती है जिससे न सिर्फ एक्यूरेट के छात्र-छात्राएं अपितु देश के अन्य कॉलेज व विश्वविद्यालय के छात्र छात्राओं को अपना भविष्य चयन करने का सुनहरा अवसर मिलता है. श्री वर्मा ने बताया कि अभी तक करीब १५ कंपनिया कैंपस इंटरवेव के लिए आ चुकी है व करीब ५० कंपनियों के जॉब डिस्क्रिप्शन आ चुके है.
पूल कैंपस के लिए आये विभिन्न संस्थानों के प्रतिनिधि व विद्यार्थियों ने एक्यूरेट में आयोजित पूल कैंपस के लिए किये गए इंतज़ामों की सरहाना की.

एक्यूरेट में एकदिवसीय मार्केटिंग सेमिनार का आयोजन

आज दिनाक 1 अक्टूबर २०१६ को करंट ट्रेंड्स एंड प्रैक्टिस विषय पर मार्केटिंग सेमिनार का आयोजन किया गया जिसमे ऍम. बी. ए. व पी. जी. डी. एम. के करीब 25 छात्र व छात्राओं ने मार्केटिंग के विभिन्न विषयों पर अपने विचार रखे. सेमिनार को चार विभागों में बंटा गया प्राम्भिक सेशन में संस्था की समूह निदेशिका, महानिदेशक, कार्यकारी निदेशक व सभी निदेशकों ने अपने विचार व्यक्त किये. छात्र व छात्राओं की स्पीच को दो हिस्सों में पूरा किया गया अंतिम सेशन में धन्यवाद् प्रस्त्वाना व सर्टिफिकेट का वितरण किया गया. प्रोफ प्रदीप वर्मा, प्रोफ विनय झा व प्रोफ फैज़ सिद्दकी को जज के रूप मर नियुक्त किया गया जिन्होंने वर्षा कुमारी को बेस्ट प्रेजेंटेशन के लिये प्रथम व सुभम जैन को द्वितीय व रूचि पोद्धार को तृतीय स्थान दिया प्रारम्भिक सेशन में समूह निदेशिका सुश्री पूनम शर्मा ने छात्रो को बधाई देते हुए कहा कि यह अत्यंत प्रसन्नता की बात है छात्र व छात्राएं मार्किट में आने वाले परिवर्तन को समझते हुए उसके अनुरूप सही रणनीति का सुझाव प्रस्तुत कर रहे है. समूह निदेशिका ने कहा की आज की तारीख में कम्पटीशन इतना अधिक हो गया की हर कंपनी को मार्किट में बने रहने के लिये अधिक प्रयास करने पड़ते है कस्टमर के लिये बेहतर ऑफर देने होते है. उन्होंने रिलायंस जिओ का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि एक कंपनी के ऑफर से बाकी कम्पनीज के ऊपर मूल्य काम करने का प्रेशर शुरू हो गया है व बाकि कम्पनीज भी अपनी मूल्यों को काम कर रहे है. महानिदेशक डा सरोज कुमार दत्ता ने कहा की पिछले एक दशक में मार्केटिंग के क्षेत्र में काफी मूलभूत परिवर्तन हुए है. उन्होंने कुछ कंपनियों का उदाहरण देते हुए कहा की आज कोई भी कस्टमर सिर्फ प्रोडक्ट नहीं खरीदता बल्कि ब्रांड खरीदता है. कार्यकारी निदेशक डा राजीव भरद्वाज ने सभी प्रतिभागियों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि मार्केटिंग सेमिनार का उद्देश्य छात्र व छात्रों को वास्तविक समस्याओ से अवगत करना है. निदेशक डा प्रवीण पचोरी ने मार्केटिंग से सम्बंधित बहुत सारे दवेलोप्मेंट्स के बारे में जानकारी देते हुए कहा की भविष्य में मार्केटिंग की परिभाषा आज के दौर से एकदम भिन्न हॉग. डायरेक्टर एम. बी. ए. डा. एस. ऐन. सिंह ने बताया कि आज इन्टरनेट व मोबाइल के समय में मार्केटिंग की परिभाषा अलग हो गई है. आज कही से भी किसी भी प्रोडक्ट को चेक व बाई किया जा सकता है. सेमिनार कोऑर्डिनेटर प्रोफ रिपुदमन गौर ने बताया कि मार्केटिंग मिक्स पूर्ण रूप से बदल चूका है. पहले कोम्पनिएस प्रोडक्ट बनती थी आज ब्रांड. पहले कम्पनीज प्राइस अपने अनुसार निर्धारित करती थी जबकि आज मार्केट खुद प्राइस निर्धारित करता है. डिजिटल मार्केटिंग, एक मुख्य धारा के रूप में उभर के आया है. प्रथम तकनिकी सेशन में 10 प्रतिभागियों ने भाग लिया जिनमे से मुख्य रूप से पवनेश्वर दत्त ने डिजिटल मार्केटिंग, अंजू कार्की ने मोबाइल मार्केटिंग, मनीष झा ने नुरोमार्केटिंग, नेहा ने ब्रांडिंग व रूचि ने कस्टमर वैल्यू पर अपने विचार को प्रस्तुत किया. दुसरे तकनिकी सेशन में राधारानी ने डिजिटल मार्केटिन, सुरंजन ने अम्बुश मार्केटिंग, शुभम जैन ने वायरल मार्केटिंग शुभम गुप्ता ने मार्केटिंग एथिक्स पर अपने विचार व्यक्त किये. मार्केटिंग सेमिनार को संछेप में बताते हुए प्रोफ झा ने बताया की मोबाइल टेक्नोलॉजी व इनोवेशन ने मार्केटिंग की दशा व दिशा को बदल दिया है. आने वाले समय में प्रोडक्ट का डिस्ट्रीब्यूशन ड्रोन के जरिये होगा. सोशल मीडिया का इस्तेमाल अभी और अधिक मात्र में होना है.

एक्यूरेट के पी जी डी एम के छात्रों ने किया दिल्ली दर्शन

दिल्ली मे देश का इतिहास, वर्तमान व भविष्य निवास करता है-पूनम शर्मा
आज दिनांक ७ सितम्बर २०१६ को पी जी डी एम प्रथम वर्ष के छात्र एवं छात्राओं को दिल्ली दर्शन के लिए ले जाया गया. जैसा की विदित है की एक्यूरेट पी जी डी एम में भारत के विभिन्न भाग से छात्र एडमिशन लेते है जिनमे से अधिकतर स्टूडेंट्स दिल्ली की संस्कृति एवं यहाँ की परंपरा से अनिभिज्ञ होते है. एक्यूरेट कॉलेज की यह परंपरा है कि छात्रों को शुरुआती सत्र में दिल्ली दर्शन के लिए ले जाया जाता है जिससे विद्यार्थी दिल्ली के अनेक ऐतिहासिक इमारते, धरोहर तथा अन्य पर्यटक स्थल जैसे इंडिया गेट, कुतबमीनार,लोटस टैम्पल, लाल किला, गांधी समाधी, हुमायु तुंब आदि स्थलों का भ्रमण कराया गया. एक्यूरेट की समूह निदेशिका सुश्री पूनम शर्मा ने बताया कि दिल्ली दर्शन के ज़रिये छात्रों को भारत की परम्परा एवं यहाँ की संस्कृति के साथ जोड़ने की कोशिश की जाती है.दिल्ली दर्शन के माध्यम से पर्यटन छेत्र में विकसित हुई सम्भानाओ को भी दर्शाया जाता है.सुश्री पूनम शर्मा ने बताया कि दिल्ली मे भारत का इतिहास, वर्तमान और भाईविष्य निहित है। उन्होने कहा कि एक कुशल मैनेजर बनने के लिए किताबी ज्ञान होने के साथ साथ सामाजिक, भोगोलिक व सांस्कृतिक ज्ञान होना भी आवश्यक है, इसी उद्देश्य के साथ प्रतिवर्ष दिल्ली दर्शन को आयोजी किया जाता है। महानिदेशक प्रोफ (डा) एस के दत्ता ने छात्रों को सम्भोधित करते हुए कहा कि एक कुशल मैनेजर बनने के लिए किताबी ज्ञान पर्याप्त नई है अपितु आज का उध्योग जगत ऐसे प्रतिभावान छात्रों को मौका देता है जो कि ज्ञान कि उपयोगिता को समझते है.। उन्होने देश कि पर्यटन उद्योग के बारे मे विस्तार से बताते हुए इसमे उत्पन्न होने वाली संभावनाओ का विश्लेषण किया। कार्यकारी निदेशक प्रोफ (डा) राजीव भरद्वाज ने विभिन्न पर्यटक स्थलों के बारे में विस्तार से बताते हुए कहा कि हर पर्यटक स्थल के साथ कोई न कोई कहानी जुडी है और हर कहानी हमें पता होनी चाहिए. अपनी धरोहरों के बारे मे ज्ञान अर्जित करने से देश को बेहतर तरीके से जानने का मौका मिलता है। उन्होने कहा कि पर्यटन की प्रेरणा राजनीतिक, धार्मिक, सांस्कृतिक, व्यावसायिक, व्यापारिक आदि अनेक कारणों से प्राप्त हो सकती है । इनके अतिरिक्त मनोरंजन, अनुसंधान, अध्ययन, स्वास्थ्य-लाभ अथवा अन्य व्यक्तिगत कारण भी पर्यटन के मूल में हो सकते हैं । सांस्कृतिक आदान-प्रदान के लिए संसार के सभी सभ्य देशों के बीच नागरिकों की यात्रा अब नित्य की दिनचर्या है । दिल्ली दर्शन के दौरान एक्यूरेट के प्रोफ रिपुदमन गौड़ व प्रोफ हरीश ने छत्रों के साथ हर स्थल का भ्रमण किया व छात्रों को हर स्थान के बारे में बारीकी से समझाया.

एक्यूरेट मे एम बी ए का ओरिएंटशन

अपनी जिंदगी को अपने तरीके से जीना ही सफलता-करन वाही
दिनांक 23 अगस्त 2016 को नॉलेज पार्क 3 स्थित एक्यूरेट इंस्टीट्यूट के एम बी ए प्रोग्राम का ओरियंटशन किया गया जिसमे पूर्व क्रिकेटर व जाने माने अभिनेता करन वाही को मुख्य अथिति के रूप मे आमंत्रित किया गया। ओरियंटशन के पहले दिन देश के विभिन्न हिस्से से छात्र-छात्राओं ने रिपोर्ट किया। ओरियंटशन मे मुख्य अथिति करन वाही के साथ साथ संस्था की समूह निदेशिका पूनम शर्मा, निदेशक डा पी के पचौरी, निदेशक-प्रशासन डा ऐस के डुबे, विभाग अध्यक्ष डा विकास गर्ग व अन्य प्राध्यापक सम्मालित रहे। अभिनेता करन वाही ने छात्र-छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा कि कठिन परिश्रम व द्रण निश्चय प्रत्येक सफलता की कुंजी होती है। उन्होने कहा भारत युवाओं का देश है इस देश कि सबसी बड़ी ताकत युवाओ कि ऊर्जा है। इस ऊर्जा का सही इस्तेमाल देश के निर्माण मे होना चाहिए ।श्री वाही ने कहा कि विश्व मे प्रतिस्पर्धा का दौर है इस दौर मे आपको हर वक़्त सचेत और गतिशील रहना होता है। उन्होने छात्र-छात्राओं को शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि प्रबंधन के छेत्र मे अपार संभावनाएँ है, अवसरो का बोध करना व उसका दोहन करना ही उचित प्रबंधकीय सोच होगी। संस्था की समूह निदेशिका सुश्री पूनम शर्मा ने मुख्य अतिथि व छात्र-छात्राओं का स्वागत करते हुए कहा कि हम शिक्षा के क्षेत्र मे गुणवत्ता को लेकर काफी सजग है। शिक्षा कि गुणवत्ता के साथ कोई भी समझोता नहीं किया जाएगा। उन्होने कहा कि पिछले कई वर्षो से एक्यूरेट ने परीक्षा परिणाम व प्लेसमेंट को लेकर कई उपलब्धियां हासिल कि है। उन्होने बताया कि हम गत कई वर्षों से 100 प्रतिशत परीक्षा परिणाम प्राप्त कर रहे है तथा प्रत्येक छात्र को उसकी योग्यतानुसार उचित जॉब भी दिलाते रहे है।एक्यूरेट के इस मुकाम के लिए उन्होने सभी प्राध्यापको का धन्यवाद प्रस्तुत किया। संस्था के महानिदेशक डा सरोज कुमार दत्ता ने छात्र छात्राओ से अपने आई आई एम के अनुभवो को साझा किया उन्होने बताया कि देश कि प्रबंधन शिक्षा मे काफी मूलभूत बदलाव लाने कि आवश्यकता है। प्रबंधन शिक्षा का उद्देश्य मात्र जॉब पाना नहीं है अपितु देश कि अर्थव्यवस्था को गतिमान रखने के लिए उद्यमिता को बड़ावा देना है । उन्होने छत्रों से शिक्षा को उद्योग जगत से जोड़कर हासिल करने कि अपील कि। निदेशक डा प्रवीण पचोरी ने नवागंतुक छात्र-छात्राओ को संबोधित करते हुए देश व समाज के प्रति अपनी ज़िम्मेदारी निभाने को कहा। डा पचौरी ने छत्रों को ‘आउट ऑफ द बॉक्स थिंकिंग’ के प्रति जागरूक करते हुए कहा कि अपनी सोच का दारा बदलो, नई चीचो को स्वीकार करो एवं अपने कम्फर्ट को तोड़ो। उन्होने कहा कि जितनी भी सफलता कि कहानी लिखी गयी है उनके पीछे कठोर परिश्रम व लगन का योगदान ही अति महत्वपूर्ण है। निदेशक-प्रशासन डा ऐस के डुबे ने छत्रों को आने वाली चुनोतियों को सामने करने के गुर सिखाये। उन्होने उद्योग जगत मे सॉफ्ट स्किल्स कि उपियोगिता पर ज़ोर दिया। डा डुबे ने सॉफ्ट स्किल्स कि चर्चा करते हुए कहा कि हम जिंदगी मे बहुत सारे लोगो के साथ डील करते है जिनमे से कुछ कठिन प्रतीत होते है। वास्तव मे ये लोग कठिन नहीं बल्कि भिन्न होते है। विभाध्यक्ष डा विकास गर्ग ने सभी अतिथि व अभिववकों को धन्यवाद प्रस्तुत किया॥